Nagrota Encounter: Terrorists Entered India From Shakargarh Channel | ABP News

4
16
Nagrota Encounter: Terrorists Entered India From Shakargarh Channel | ABP News

Terrorists who were killed in the Nagrota encounter entered India from the Shakargarh nullah channel and reached the Jammu-Pathankot highway. They then boarded a truck with a fake nameplate. Four terrorists belonging to the Pakistan-based Jaish-e-Mohammed terror group were killed in the gunfight in Jammu’s Nagrota area. They were travelling in a truck on the Jammu-Srinagar National Highway, which was intercepted by the police at a toll plaza near Nagrota.
#Nagrota #ABPNewsLive

To Subscribe our YouTube channel here: https://www.youtube.com/user/abpnewstv

Download ABP App for Apple: https://itunes.apple.com/in/app/abp-live-abp-news-abp-ananda/id811114904?mt=8
Download ABP App for Android: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.winit.starnews.hin&hl=en

About Channel:
ABP News is a news hub which provides you with comprehensive up-to-date news coverage from all over India and World. Get the latest top stories, current affairs, sports, business, entertainment, politics, astrology, spirituality, and many more here only on ABP News.
ABP News is a popular Hindi News Channel made its debut as STAR News in March 2004 and was rebranded to ABP News from 1st June 2012.

The vision of the channel is ‘Aapko Rakhe Aagey’ -the promise of keeping each individual ahead and informed. ABP News is best defined as a responsible channel with a fair and balanced approach that combines prompt reporting with insightful analysis of news and current affairs.

ABP News maintains the repute of being a people’s channel. Its cutting-edge formats, state-of-the-art newsrooms commands the attention of 48 million Indians weekly.

Watch Live on http://abpnews.abplive.in/live-tv
ABP Hindi: http://abpnews.abplive.in/
ABP English: http://www.abplive.in/

Social Media Handles:
Instagram: https://www.instagram.com/abpnewstv/?hl=en
Facebook ABP News (English): https://www.facebook.com/abplive/?ref=br_rs
Facebook: https://www.facebook.com/abpnews/
Twitter: https://twitter.com/abpnews

4 COMMENTS

  1. क्या बकवास है यह ! मैं आपके कार्यक्रम में महिला प्रस्तोता को घुटनों तक लंबी स्कर्ट पहनकर पेश करने से वाकई हैरान और दुखी हूँ।अगर एक्सपोज़ करना ही है तो ढंग से करिये न।इतना कम एक्सपोज़ क्यों किया है इन एंकर महोदया ने?आजकल तो भारतीय समाज में कई लड़कियाँ अपने दफ्तरों, बाज़ार आदि तक में बोल्ड कपड़े जैसे शॉर्ट्स आदि तक पहनती हैं और कई समाचार चैनल भी महिला प्रस्तोताओं को बोल्ड अंदाज में पेश करते हैं जिससे न सिर्फ उनके चैनल को ज्यादा से ज्यादा like मिलते हैं बल्कि समाज में महिला सशक्तिकरण का एक स्वस्थ संदेश भी जाता है और आखिर इसमें बुराई भी क्या है? आपके चैनल में तो ये महिलाएं सिर्फ घुटनों तक की लंबी स्कर्ट ही पहनती हैं,जबकि कई अन्य चैनलों में तो शार्ट स्कर्ट,1पीस,आस्तीन रहित टॉप भी पहनती हैं।दरसल ये लोग २१वीं सदी की समाचार प्रस्तोता हैं कोई १९वीं या २० वीं सदी की नहीं जो इतनी लंबी स्कर्ट और पूरे बाजूबंद पहनाया जाए उन्हें।आजकल के feminism के जमाने में महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए उन्हें और भी ज्यादा छोटे और खुले कपड़े जैसे स्लीवलेस,शॉर्ट्स,शार्ट स्कर्ट,1 पीस जिसमें थोड़ा बहुत cleavage,पूरी टाँगें आदि दिखाई दें पहनकर रिपोर्टिंग करनी चाहिए।आजकल छोटे-२ गाँवों, कस्बों,तंग गलियों तक में तो सयानी लड़कियाँ शॉर्ट्स और स्लीवलेस पहनकर घूमती हैं और आजकल के TV कार्यक्रमों में भी लड़कियों का खुले और बोल्ड कपड़े पहनना बहुत ही आम हो चुका है।इसके अलावा कई समाचार चैनलों की महिला प्रस्तोताओं का बोल्ड कपड़े पहनना बहुत ही कॉमन है आजकल जिसमें उनके और साथ में बैठी दूसरी महिला जिसका साक्षात्कार हो रहा होता है,के cleavage आदि तक दिखते हैं।यह सब खुलापन कोई आज से नहीं बल्कि कई साल(१२-१३ साल) पहले से होता आया है।अब आप खुद ही सोंचिए कि जब आज से १२ साल पहले महिला समाचार प्रस्तोता और सामने बैठी अतिथि बोल्ड पहनावा पहनते रहे हैं तो इस हिसाब से आज २०२० में उन्हें इससे थोड़ा और ज्यादा एक्सपोज़ करना ही चाहिए।इसमें शर्माने का कोई मतलब ही नहीं है।जैसा कि आप जानते ही हैं कि आपका समाचार चैनल फ्री टू एयर चैनल हैं इसलिए भारत के सुदूर गाँवों में जहाँ कोई केबल ऑपरेटर और अन्य निजी शुल्क लेने वाली DTH कंपनियाँ अपनी सेवाएं नहीं देती हैं,वहाँ के नागरिक भी दूरदर्शन की मुफ्त DTH सेवाओं के माध्यम से आपके चैनल को देखते हैं।कुल मिलाकर यही कहना है कि आपके चैनल की पहुँच सुदूर गांव तक पहुंच होने के कारण आपके पास एक बहुत ही विशाल दर्शक वर्ग है।इसलिए अगर आपके चैनल की महिला प्रस्तोता इस तरह का बोल्ड पहनावा पहनकर रिपोर्टिंग करेंगी तो इसे देखकर समाज में ऐसे कपड़ों के प्रति स्वीकार्यता बढ़ेगी और छोटे-२ गाँवों की लड़कियाँ भी उनसे प्रेरणा लेकर ऐसे कपड़े पहनने का साहस जुटा पायेंगी,जो अभी तक समाज के कुछ तथाकथित ठेकेदारों के कारण ऐसा करने से डरती हैं।यह निश्चित रूप से महिला सशक्तिकरण और महिला स्वावलंबन की ओर एक अत्यंत अच्छा कदम होगा।आज दुनिया के कई विकसित देशों में महिलाओं के साथ होने वाली बलात्कार, छेड़छाड़ की घटनाएं इसीलिए कम हैं क्योंकि वहाँ ऐसे बोल्ड कपड़ों की सामाजिक स्वीकार्यता है और इसे अश्लीलता के तौर पर नहीं अपितु महिला सशक्तिकरण के तौर पर देखा जाता है।भारत में भी अब ऐसा हो चुका है।समय बढ़ने के साथ तो बहुत सी चीज़े बदल जाती हैं।पुराने समय से ही ग्लैमर और महिला सशक्तिकरण जैसी चीजें समय बढ़ने के साथ बढ़ती ही रही हैं और बढ़नी भी चाहिए क्योंकि परिवर्तन तो संसार का नियम है।आज से 20 साल पहले अगर महिला समाचार प्रस्तोताओं पर साड़ी,पूरी बाँह के टॉप,पूरी टांग ढकी जीन्स जैसे ड्रेस कोड लागू थे तो उसे आज के समय के हिसाब से बदलने की जरूरत है न कि वही घिसा पिटा चलाने की क्योंकि यह 21वीं सदी(21st century) है।

    इसलिए आप लोग भी अपनी महिला प्रस्तोताओं को 21वीं सदी का पहनावा पहनकर(खुली टाँगों की छोटी स्कर्ट/1 पीस जो घुटनों से कम से कम 1 फीट ऊँची हो,आस्तीन रहित और क्लीवेज दिखाऊ टॉप) समाज में ऐसे कपड़ो की स्वीकार्यता बढ़ाकर महिला सशक्तिकरण का मार्ग प्रशस्त करने का निर्देश दीजिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here